Skip to main content

Documents related to Nitin Gadkari

विदर्भ में एक तरफ तो किसान आत्महत्या कर रहे थे दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी विदर्भ में बांध बनाने वाली कंपनियों के रुके हुए भुगतान से इतने चिंतित थे कि सरकार से तुरंत भुगतान की सिफारिश कर दी. मजे की बात यह है कि भाजपा के ही दो सांसदों ने केंद्रीय जल संसाधन मंत्री को लिखित में इन कंपनियों के खिलाफ शिकायत की थी.
हैरानी की बात है कि उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष ने केंद्रीय मंत्री को यह लिखा कि हमारे सांसदों की शिकायत को नजरअंदाज कर दीजिए और कंपनियों का भुगतान तुरंत कराइए, देश की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के बड़े नेता को किसानों की आत्महत्याओं से कोई दुख नहीं था दुख था तो कॉरपोरेट घरानों के रुके हुए भुगतान से. गडकरी देश के मजबूर किसानों के हमदर्द हैं या करोड़ो की हेरा-फेरी करने वाले कई कॉरपोरेट घरानों के.


On one side farmers are doing suicides in Vidarbha and on the other hand BJP's National President Nitin Gadkari was so worried about held up payments of companies building dams there that he immediately recommended to the central government to release the payment. The interesting part is that two BJP MP's had also written to Union Water Resources Minister about these ministers.
Strangely, the National President wrote to the minister asking him to overlook the complaints and get the payments released immediately. The leader of the second biggest party in the country was not grieved over farmer suicides but about pending payments of corporate houses. Is Gadkari sympathizer of helpless farmers or of the corporate houses who swindle crores of rupees?

Exhibit 1
Exhibit 2
Exhibit 3
Exhibit 4
Exhibit 5
Exhibit 6
Exhibit 7
Exhibit 8
Exhibit 9
Exhibit 10
Exhibit 11

 

Arvind Kejriwal's Press Conference on Nitin Gadkari: www.youtube.com/watch?v=nXgRuhFt_Ho